Nightfall Treatment in Hindi – Swapandosh Rokne Ke Upay स्वप्नदोष के उपाय

Nightfall Treatment in Hindi – Swapandosh Rokne Ke Upay स्वप्नदोष के उपाय हिंदी में जानिए Swapandosh Ka Gharelu Ilaj :

स्वप्नदोष एक प्रकार की मानसिक बीमारी है । रात के समय अपने आप वीर्य निकल जाने को स्वप्नदोष कहते हैं । युवाओं में स्वप्नदोष होना एक आम बात है । अगर महीने में एक या दो बार स्वप्नदोष हो जाये तो घबराना नहीं चाहिए पर अगर दो से ज्यादा बार स्वप्नदोष हो जाये तो आपको इसे रोकने के लिए कुछ उपाय करने जरूरी है क्यूंकि जब स्वप्नदोष अधिक होता है तो शारीर पर इसका बुरा असर पड़ता है और इससे मानसिक दवाब भी बढ़ता है ।

Nightfall Treatment, Swapnadosh Ka Ilaj
Read Out How To Control Nightfall Without Medicine In Hindi Language.

वैसे तो शादी के बाद स्वप्नदोष की समस्या नहीं होती है लेकिन अगर शादी के बाद भी आपको स्वप्नदोष होता है तो इसका इलाज जरूर करें । इस लेख में आज हम आपको कुछ ऐसे ही आयुर्वेदिक उपाय बता रहे है जिसके नियमित इस्तेमाल से स्वप्नदोष के रोग जड़ से ख़त्म हो जायेंगे ।आइए जानते है How To Control Nightfall :

स्वप्नदोष के नुक्सान – Side Effects of Nightfall:

  • शारीर में कमज़ोरी आने लगती है ।
  • किसी काम में मन नहीं लगता ।
  • शारीर का स्टेमिना काम होने लगता है और vyakti अलसी होने लगता है ।
  • ज्यादा स्वप्नदोष होने से सम्भोग के समय गुप्तांग जल्दी निष्क्रिय होने लगता है ।

स्वप्नदोष के कारण – Causes of Nightfall:

  • सम्भोग के बारे में ज्यादा सोचना ।
  • सपने में सम्भोग करना ।
  • रात को देर से खान खाना ।
  • पेट के बल उलटे होकर सोना ।
  • पेट में गर्मी होना ।

बिना दवाई लिए स्वप्नदोष से कैसे बचें:

अगर आप बिना किसी दवा के स्वप्नदोष रोकना चाहते हैं तो आप इसके लिए दो बारों का ख़याल रखें । पहला दिमाग साफ़ रखें और दूसरा अपना पेट साफ़ रखें । इन दोनों उपाय का इस्तेमाल करके आप स्वप्नदोष की समस्या से हमेशा के लिए छुटकारा पा सकते हैं ।

  • दिमाग साफ़ रखने के लिए अपने दिमाग को अच्छे कामों और अच्छे विचारों में व्यस्त रखें ताकि योन सम्बन्धी कोई भी विचार ना आये ।
  • कब्ज़ होने की वजह से भी स्वप्नदोष होता है इसीलिए पेट साफ़ रखना भी जरूरी है । कब्ज़ होने पर पेट में मौजूद मॉल सड़ने लगता है और पेट में गर्मी बनता है ।

स्वप्नदोष रोकने के उपाय:

  • स्वप्नदोष से बचने के लिए शरीर को ठंडा रखने वाली चीजें खाएं ।
  • रात को हलके और ढीले कपडे पहनकर सोएं ।
  • गुप्तांग के आस पास के बालों को बढ़ने ना दें ।
  • रात को सोने से पहले दूध ना पिएं क्यूंकि दूध पीने से शारीर को गर्मी मिलती है जिससे स्वप्नदोष जयादा होता है ।
  • रात को सोने से पहले अपने पैर घुटनों तक ठन्डे पानी से धोएं ।
  • हफ्ते में एक बार हस्तमैथुन कर सकते हैं ।
  • रात को खाना सोने से दो या तीन घंटे पहले ही खा लें और रात का खान ज्यादा हैवी न लें ।
  • हमेशा सीधा सोएं ।
  • स्वप्नदोष रोकने के लिए तन और मन दोनों साफ़ रखें ।
  • रोजाना गुप्तांग की चमड़ी को पीछे हटकर साफ़ करें ।
  • सोने से पहले कोई अच्छी किताब पढ़े ताकि सोते समय मन में अच्छे विचार आएं ।
  • हर रोज सुबह जल्दी उठ कर योगासन और प्राणायाम करें ।
  • कब्ज़ ना होने दें ।
  • ठन्डे पानी से नहाएं ।
  • रात को भोजन करने के बाद पेशाब जरूर करें ।

स्वप्नदोष दूर करने के घरेलू नुस्खे:

  • रोजाना लहसुन की दो कलियाँ पानी के साथ निगल लें ।
  • हर रोज दो केले खाएं और साथ ही गुनगुना दूध पिएं ।
  • सुखा धनिया और मिश्री मिलाकर पीस लें और पाउडर बन लें । रोजाना आधा चम्मच पाउडर सादे पानी के साथ लें । इस उपाय से स्वप्नदोष से जल्दी छुटकारा मिलेगा ।
  • अनार के छिलकों को पीसकर चूर्ण बन लें । सुबह शाम पांच पांच ग्राम चूर्ण पानी के साथ लेने से फायदा मिलेगा।
  • सफ़ेद प्याज दस ग्राम, पांच ग्राम अदरक का रस, तीन ग्राम देसी घी और तीन ग्राम देशी शहद मिलाकर रात को सोने से पहले लें ।

स्वप्नदोष के आयुर्वेदिक इलाज:

  • आंवले का एक मुरब्बा रोजाना खाने से स्वप्नदोष की बीमारी ठीक होती है ।
  • नीम के पत्ते, तीन काली मिर्च और तीन से चार टुकड़े गिलोए के लें और सब को मिला कर बारीक़ से पीस कर पाउडर बन लें । इस पाउडर को रोज सुबह खाली पेट पानी के साथ लें । कुछ दिन लगातार इस घरेलु नुस्खे को करने से स्वप्नदोष की समस्या से छुटकारा मिलेगा और और जब आपको लगे की अब स्वप्नदोष बंद हो गया है तब ये उपाय करना भी बंद कर दें ।
  • पालक के पत्तो को पीस लें और किसी साफ़ कपडे में पीसी हुई पालक डाल कर निचोड़ लें और रस को किसी कप में जमा कर लें । सुबह खाली पेट ये रास पीएं । इस उपाय को एक सप्ताह लगातार करने से स्वप्नदोष होना रुक जायेगा ।

तो दोस्तों स्वप्नदोष का इलाज का यह लेख आपको कैसा लगा हमें कमेंट करके बताएं और अगर आपके पास इस समस्या का कोई अलग इलाज है जो आप जानते हों तो हमारे साथ शेयर करें ।

उम्मीद है आप सभी लोगों को यह लेख पसंद आया होगा । यदि आपको यह लेख पसंद आया है तो कृपा इसे अपने दोस्तों, रिस्तेदारों और जानकारों से शेयर जरूर कीजिये । अभी शेयर करने के लिए नीचे दिए सोशल शेयर बटन का उपयोग कीजिये और इसे अपने फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस और अन्य सोशल नेटवर्क प्रोफाइल में शेयर कीजिये ।

हिन्दिज्ञान से जुड़े रहने के लिए अभी फॉलो कीजिये:

Facebook: https://www.facebook.com/hindigyaan
Twitter: http://twitter.com/hindigyaan
Pinterest: https://www.pinterest.com/hindigyaan
Google Plus: https://plus.google.com/+HindiGyaan

HindiGyaan.com के सभी नए लेख को तुरंत और सीधे अपने इ-मेल के इनबॉक्स में पाने के लिए अभी सब्सक्राइब कीजिये: Subscribe Us

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *